शाहनवाज हुसैन का वनवास हुआ खत्म, बन सकते हैं नीतीश सरकार में मंत्री

पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता सैयद शाहनवाज हुसैन का राजनीतिक वनवास आखिरकार खत्म हो गया है|

शनिवार को भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें बिहार विधान परिषद के लिए होने वाले उपचुनाव में पार्टी का उम्मीदवार घोषित किया| यह सीट पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के त्यागपत्र देने के कारण खाली हुई थी| मालूम हो कि राज्यसभा का सदस्य चुने जाने के बाद सुशील कुमार मोदी ने बिहार विधान परिषद से त्यागपत्र दे दिया था|

बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बहुत जल्द अपने मंत्रिमंडल का विस्तार करने वाले हैं| राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि शाहनवाज हुसैन को भी नीतीश सरकार में मंत्री बनाकर बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है| सुशिल कुमार मोदी के दिल्ली जाने के बाद बिहार सरकार में भाजपा का कोई बड़ा चेहरा नहीं बचा है जिसकी बड़ी पहचान हो|

पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में सबसे कम उम्र में कैबिनेट मंत्री बनने वाले सैयद शाहनवाज हुसैन 2014 का लोकसभा चुनाव भागलपुर से हार गए थे| लेकिन उनका राजनीतिक वनवास शुरू हुआ 2015 में जब पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व उनसे नाराज हो गया|

दरअसल 2015 बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा ने नीतीश कुमार एवं लालू यादव की जोड़ी के खिलाफ पूरी ताकत लगा दी थी| पार्टी नेतृत्व चाहता था कि शाहनवाज हुसैन बिहार विधानसभा का चुनाव लड़े| लेकिन शाहनवाज हुसैन विधानसभा का चुनाव लड़ना नहीं चाह रहे थे| कहा जाता है कि वह राज्यसभा जाना चाहते थे|

पार्टी नेतृत्व को शाहनवाज हुसैन का विधानसभा चुनाव न लड़ने का निर्णय नागवार गुजरा| उसके बाद लंबे समय तक पार्टी ने शाहनवाज हुसैन को दरकिनार कर दिया| यहां तक की 2019 के लोकसभा चुनाव में उन्हें टिकट भी नहीं दिया गया| संगठन में भी वरिष्ठ होने के बावजूद उन्हें सिर्फ प्रवक्ता बनाया गया| शाहनवाज हुसैन ने अपना धैर्य बनाए रखा और पार्टी द्वारा दिए गए दायित्वों का निर्वहन करते रहे|

2020 के अंत में हुए जम्मू एवं कश्मीर में हुए डीडीसी चुनाव में पार्टी ने केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग सिंह ठाकुर को चुनाव प्रभारी एवं शाहनवाज हुसैन को सहप्रभारी बनाया| अनुराग ठाकुर से वरिष्ठ होने के बावजूद शाहनवाज हुसैन ने उनके साथ मिलकर काम किया तथा पार्टी को अच्छी जीत दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई| पहली बार भाजपा कश्मीर क्षेत्र में अपना खाता खोलने में सफल हुई|

अंततः शाहनवाज हुसैन को उनके धैर्य एवं मेहनत का पुरस्कार मिला और भाजपा ने उन्हें बिहार विधान परिषद् का सदस्य यानि एमएलसी बनाने का निर्णय लिया| और बहुत जल्द वह बिहार सरकार में मंत्री भी बनेंगे ऐसी पूरी संभावना जताई जा रही है|

 


Scroll to Top