आत्मनिर्भर भारत को मिली ताकत, स्वदेशी कंपनी को मिला 44 वंदे भारत ट्रेन बनाने का ठेका

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी आत्मनिर्भर भारत अभियान को जबरदस्त मजबूती देते हुए भारतीय रेल ने 44 नए वंदे भारत ट्रेन बनाने का ठेका एक स्वदेशी कंपनी को दिया है|

भारतीय रेल की शान आधुनिक वंदे भारत ट्रेन का निर्माण चेन्नई स्थित भारतीय रेल की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री ने मात्र 100 करोड़ रूपये की लागत में किया है| यह भारतीय इंजीनियरिंग क्षमता का उत्कृष्ट नमूना है|

2211 करोड़ रूपये की लागत से बनने वाले 44 नए वंदे भारत ट्रेन के उत्पादन का ठेका स्वदेशी कंपनी मेधा सर्वो ड्राइव को दिया गया है| ठेका के शर्तों के अनुसार 75 प्रतिशत कलपुर्जे कंपनी को स्वदेशी कंपनियों से ही खरीदने होंगे|

वंदे भारत ट्रेन के 44 नए रेक (ट्रेन) में से 24 रेक का निर्माण चेन्नई की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री में होगा, 10 रेक का निर्माण कपूरथला की रेल कोच फैक्ट्री में तथा 10 रेक का निर्माण रायबरेली की मॉडर्न कोच फैक्ट्री में किया जाएगा| वंदे भारत ट्रेन के प्रत्येक रेक में 16 डिब्बे (कोच) होंगे|

20 महीने के अंदर दो रेक बनकर तैयार हो जाएंगे| इसके बाद इनका परीक्षण किया जाएगा| सभी परीक्षण पास हो जाने के बाद प्रत्येक तीन माह में 6 रेक (ट्रेन) बनकर तैयार हो जाएंगे|

 


Scroll to Top